Sarkari Job, Sarkari Result, Sarkari result up, Sarkari Exam

Sugarcane Payment 2024: यूपी के गन्ना किसानों के बैंक खातों में 30 हजार करोड़ रुपये गन्ने का भुगतान जानिए कितना हुआ चीनी का उत्पादन

Sugarcane Payment 2024: यूपी के गन्ना किसानों के बैंक खातों में 30 हजार करोड़ रुपये गन्ने का भुगतान जानिए कितना हुआ चीनी का उत्पादन

यूपी में लगभग 5 मिलियन परिवार गन्ने की खेती में लगे हुए हैं जिससे अनुमानित वार्षिक अर्थव्यवस्था 50 हजार करोड़ रुपये है जनवरी 2024 में राज्य सरकार ने विभिन्न गन्ना किस्मों के लिए गन्ने की कीमत में 20 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की

चालू पेराई सत्र 2023-24 में उत्तर प्रदेश में गन्ना किसानों को लगभग 30 हजार करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है सरकारी आंकड़ों के अनुसार चीनी मिलों द्वारा किया गया भुगतान चालू सीजन के लिए कुल गन्ना आपूर्ति का 82 प्रतिशत से अधिक है इसके अलावा यूपी इथेनॉल उत्पादन जो 2016-17 में लगभग 421 मिलियन लीटर था 2022-23 में बढ़कर 1.54 बिलियन लीटर होने की उम्मीद है। मार्च 2023-24 तक उत्पादन 1.75 बिलियन लीटर का आंकड़ा पार करने की उम्मीद है इथेनॉल जिसका उपयोग पेट्रोल मिश्रण में किया जाता है

बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक यूपी में 121 चालू मिलों ने अब तक 98 मिलियन टन गन्ने की पेराई की है जिससे 10.33 मिलियन टन चीनी का उत्पादन हुआ है पिछले पेराई सत्र 2022-23 के लिए 213 करोड़ रुपये के भुगतान में चूक करने वाली एक निजी चीनी मिल इकाई को छोड़कर किसानों को शेष 37,838 करोड़ रुपये का पूरा भुगतान किया गया था पिछले साल यूपी में 10.5 मिलियन टन चीनी उत्पादन रिकॉर्ड किया गया था

Sugarcane Payment 2024
Sugarcane Payment 2024

2.5 ट्रिलियन रुपये का भुगतान

एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि मार्च 2017 से योगी आदित्यनाथ सरकार के दौरान 2.5 लाख करोड़ रुपये के गन्ना भुगतान की सुविधा दी गई है दिलचस्प बात यह है कि यह पिछले 22 वर्षों यानी 1995 से मार्च 2017 तक किए गए समेकित गन्ना भुगतान से लगभग 36,600 करोड़ रुपये अधिक है यूपी की 121 चीनी मिलों में से निजी कंपनियों की संख्या सबसे अधिक है जो 93 है इसके बाद सहकारी समितियों के साथ-साथ उत्तर प्रदेश राज्य चीनी निगम (UPSSC) की 28 मिलें हैं

गन्ने का भुगतान 2022-24 में कितना किया गया

यूपी में लगभग 5 मिलियन परिवार गन्ने की खेती में लगे हुए हैं जिससे अनुमानित वार्षिक अर्थव्यवस्था 50,000 करोड़ रुपये है। जनवरी 2024 में, राज्य सरकार ने विभिन्न गन्ना किस्मों के लिए गन्ने की कीमत में 20 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की गई गन्ना पेराई सत्र 2022-23 में राज्य में गन्ना क्षेत्रफल एवं उत्पादन क्रमश 2.85 मिलियन हेक्टेयर एवं 235 मिलियन टन था इस बीच यूपी में मिलों ने गन्ना किसानों को 2007-12 के दौरान 52131 करोड़ रुपये 2012-17 के दौरान 95215 करोड़ रुपये 2017-22 के दौरान 1.66 ट्रिलियन रुपये और 2022-24 के दौरान 83,713 करोड़ रुपये का भुगतान किया।

तीन नई गन्ना चीनी मिलें और खुलीं

मार्च 2017 से यूपी में तीन नई मिलें खोली गई हैं इसके अलावा 6 मिलों को फिर से खोलने और 38 इकाइयों की क्षमता विस्तार के बाद अतिरिक्त 110,600 TCD क्षमता उत्पन्न हुई इसके अतिरिक्त 285 नई खांडसारी कच्ची/असंसाधित चीनी इकाइयां स्थापित की गईं जिससे गन्ना पेराई क्षमता बढ़कर 73,700 TCD हो गई इसके परिणामस्वरूप चीनी मिलों और खांडसारी दोनों खंडों में 184,300 टीसीडी की अतिरिक्त पेराई क्षमता का निर्माण हुआ इसके अलावा यूपी गन्ना क्षेत्र में लगभग 3,200 महिला स्वयं सहायता समूह सक्रिय हैं

Leave a Comment

Join Telegram