Sarkari Job, Sarkari Result, Sarkari result up, Sarkari Exam

sugarcane 2024 में गन्ने की बुआई जानिए गन्ने की 5 किस्में और सभी किसान जानें नई विधि

sugarcane 2024 में गन्ने की बुआई जानिए गन्ने की 5 किस्में और सभी किसान जानें नई विधि

कई कारणों से किसानों के बीच गन्ने की खेती का चलन बढ़ रहा है गन्ना किसानों को भुगतान में नियमितता गन्ने की कीमत में बढ़ोतरी और इथेनॉल बनाने में गन्ने का उपयोग जैसे कई कारण हैं जो किसानों को गन्ने की खेती के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं गन्ना एक ऐसी फसल है जो भारी बारिश और सूखे सहित सभी प्रकार की मौसम स्थितियों में भी बेहतर पैदावार देती है

इस समय बसंतकालीन गन्ने की बुआई का कार्य शुरू हो चुका है देश में हर साल गन्ना उत्पादक राज्यों के किसान फरवरी के आखिरी सप्ताह से मार्च तक गन्ने की बुआई करते हैं वहीं कृषि वैज्ञानिकों ने गन्ना किसानों के लिए कई ऐसी किस्में विकसित की हैं जो किसानों को अधिक पैदावार देने में सक्षम हैं यहां हम आपको गन्ने की खेती में टॉप 5 किस्मों और बुआई की नई विधि के बारे में जानकारी दे रहे हैं तो हमारे साथ बने रहें

गन्ने की शीर्ष 5 किस्में 2024

गन्ने की खेती में किसानों को हमेशा ऐसी किस्म का चयन करना चाहिए जो अधिक पैदावार दे और कम से कम बीमारियों का खतरा हो यहां आपको शीर्ष 5 गन्ने की किस्मों के बारे में जानकारी दी जा रही है जो इस प्रकार हैं

COLK-15201 गन्ने की किस्म
CO-15023 गन्ने की किस्म
COPB-95 गन्ने की किस्म
CO-11015 गन्ने की किस्म
COLK-14201 गन्ने की किस्म

sugarcane 2024
sugarcane 2024

1.COLK-15201 गन्ने की किस्म

गन्ने की इस किस्म को भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान, लखनऊ (उत्तर प्रदेश) के वैज्ञानिकों द्वारा वर्ष 2023 में विकसित किया गया है। यह किस्म पतझड़ प्रतिरोधी है और किसी भी क्षेत्र में बोई जा सकती है। COLK-15201 गन्ने की किस्म उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और उत्तराखंड में नवंबर से मार्च के महीनों के दौरान बोई जा सकती है। गन्ने की यह किस्म प्रति एकड़ 500 क्विंटल तक उपज आसानी से देने में सक्षम है. इस किस्म को इक्षु-11 के नाम से भी जाना जाता है

COLK-15201 की लंबाई अधिक होती है तथा कलियों का पृथक्करण भी अन्य किस्मों की तुलना में अधिक होता है इसमें चीनी की मात्रा 17.46 प्रतिशत है जो अन्य किस्मों की तुलना में अधिक है जिसके कारण यह किस्म अधिक उपज देती है यह नई किस्म पोका बोरिंग रेड रॉड और टॉप बोरर जैसी बीमारियों के प्रति सहनशील है

2. CO-15023 गन्ना किस्म

यह गन्ने की एक ऐसी किस्म है जो कम समय यानी 8 से 9 महीने में तैयार हो जाती है. गन्ने की इस किस्म की बुआई अक्टूबर से मार्च तक की जा सकती है. गन्ने की देर से बुआई के लिए यह किस्म सबसे उपयुक्त है इसे हल्की यानि रेतीली मिट्टी में भी बोया जा सकता है। गन्ने की किस्म CO-15023 गन्ना प्रजनन संस्थान अनुसंधान केंद्र, करनाल (हरियाणा) द्वारा विकसित की गई है। इसे CO-0241 और CO-08347 किस्मों को मिलाकर तैयार किया गया है. इसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता अन्य प्रजातियों से अधिक है गन्ने की यह किस्म अपनी अच्छी पैदावार के कारण किसानों के बीच लोकप्रिय हो रही है। इसकी औसत उपज 400 से 450 क्विंटल प्रति एकड़ होती है.

3. COPB-95 गन्ना किस्म

गन्ने की यह किस्म अधिक उपज देने के लिए जानी जाती है। COPB-95 गन्ने की किस्म प्रति एकड़ औसतन 425 क्विंटल उपज देने में सक्षम है. गन्ने की इस किस्म को पंजाब कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विकसित किया गया है। यह किस्म लाल सड़न रोग एवं पीक बोरर रोग के प्रति सहनशील है। यह किस्म खेती की लागत कम करके किसानों का मुनाफा बढ़ाती है। एक गन्ने का वजन 4 किलो तक हो सकता है इस किस्म के गन्ने का आकार मोटा होने के कारण प्रति एकड़ 40 क्विंटल बीज की आवश्यकता होती है।

4. CO–11015 गन्ने की किस्म

गन्ने की यह किस्म विशेष रूप से तमिलनाडु के लिए बनाई गई है लेकिन इसे अन्य गन्ना उत्पादक राज्यों में भी बोया जा सकता है इस किस्म की बुआई का सही समय अक्टूबर से नवंबर तक है लेकिन इसकी बुआई अक्टूबर से मार्च तक भी की जा सकती है. यह गन्ने की अगेती किस्म है और इसमें कोई रोग नहीं लगता है इसकी एक आंख से 15 से 16 गन्ने आसानी से निकल सकते हैं। एक गन्ने का वजन 2.5 से 3 किलो तक होता है. CO-11015 गन्ने की किस्म की उपज 400 से 450 क्विंटल प्रति एकड़ मानी जाती है इसके गन्ने में चीनी की मात्रा 20 प्रतिशत तक होती है. किसान इस किस्म से कम खर्च में अधिक उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं.

5. COLK-14201 गन्ने की किस्म

गन्ने की किस्म COLK-14201 भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान द्वारा विकसित की गई है। गन्ने की यह किस्म रोग रहित किस्म है इसमें किसी भी प्रकार का रोग नहीं लगता है। इसकी बुआई अक्टूबर से मार्च तक की जा सकती है गन्ने की यह किस्म गिरने के प्रति सहनशील है इस किस्म में गन्ना नीचे से मोटा होता है इसके छिद्र छोटे होते हैं तथा इस किस्म की लंबाई अन्य किस्मों की तुलना में कम होती है। गन्ने का वजन 2 से 2.5 किलोग्राम तक होता है। 17 प्रतिशत चीनी देने वाली यह किस्म एक एकड़ में 400 से 420 क्विंटल तक उपज देती है

गन्ना बुआई की नई विधि खड़ी विधि से बुआई के लाभ

समय-समय पर गन्ने की बुआई के तरीके में बदलाव देखने को मिलते रहते हैं। गन्ना किसान रिंग पिट विधि, ट्रेंच विधि तथा नर्सरी से पौध लाकर गन्ने की बुआई करते हैं। हर गन्ना बुआई विधि के अलग-अलग फायदे हैं। पिछले कुछ समय से गन्ने की बुआई की खड़ी विधि लोकप्रिय हो रही है। इस नई पद्धति को सबसे पहले उत्तर प्रदेश के किसानों ने अपनाया। इस विधि का प्रयोग गन्ने की खेती में करने से बीज कम लगता है और उपज अधिक होती है। अब किसान इस विधि का अधिक प्रयोग कर रहे हैं। ऊर्ध्वाधर विधि के लाभ इस प्रकार हैं

  • खड़ी विधि से बुआई करना काफी आसान है इसमें मोर्टार समान मात्रा में और उचित दूरी पर लगाया जाता है और संघनन भी बराबर रहता है। मजदूरों की जरूरत कम है.
  • इस विधि में कलियों का पृथक्करण बहुत अधिक होता है 8 से 10 कलियाँ आसानी से निकल आती हैं प्रति एकड़ 4 से 5 क्विंटल बीज की आवश्यकता होती है बीज पर खर्च कम होता है
  • इसमें एक आंख का शीशा काटकर सीधा लगाना पड़ता है इस विधि से बुआई करने पर गन्ने की कटाई जल्दी हो जाती है
  • ऊर्ध्वाधर विधि से अधिक उपज मिलती है इसमें कलियाँ समान रूप से बढ़ती हैं और कलियों से गन्ना भी समान मात्रा में निकलता है इस विधि से प्रति एकड़ 500 क्विंटल तक उपज प्राप्त की जा सकती है

जानिए क्या है गन्ने की खड़ी विधि

गन्ना बोने की खड़ी विधि में लाइन से लाइन की दूरी 4 से 5 फीट और गन्ने से गन्ने की दूरी लगभग 2 फीट रखी जाती है. इस विधि से एक एकड़ भूमि पर 5 हजार आखें लगाई जाती हैं।

किसानों को सलाह समय-समय पर प्रजाति बदलते रहें

कृषि वैज्ञानिकों की सलाह के मुताबिक किसानों को हमेशा एक ही प्रजाति के गन्ने पर निर्भर नहीं रहना चाहिए समय-समय पर प्रजाति बदलती रहनी चाहिए। यदि किसान लंबे समय तक एक ही किस्म की बुआई करते हैं तो वह कई बीमारियों से प्रभावित हो जाती है और उपज में नुकसान उठाना पड़ता है। इसलिए किसानों को अलग-अलग प्रजातियों का चयन करना चाहिए साथ ही किसानों को सलाह दी जाती है कि वे अपने क्षेत्र की जलवायु और मिट्टी के अनुसार स्थानीय कृषि अधिकारियों की सलाह के अनुसार गन्ने की खेती करें

 

Leave a Comment

Join Telegram